तुंगनाथः वो सफर जिसके खत्म होने की चाहत नहीं हो रही थी

0
1208
views

हमारा काॅलेज के फाइनल पेपर खत्म हो गये थे। हमारे साथी और टीचर हम सब एक बार फिर से एक अच्छे सफर की तैयारी कर रहे थे लेकिन उसमें भी कई परेशानी आ रहीं थीं। कहीं समस्या पैसे की थी तो कहीं जगह की। आखिर में हमारे कुछ सीनियर हमारे साथ आ गये तो पैसे की दिक्कत कुछ कम हो गई और जाने के दिन तक जगह भी तय हो गई, तुंगनाथ।

पहाड़ों में हर बार जाकर लगता है कि कुछ रह सा गया है, थोड़ा और आगे जाना चाहिये था। जब मैंने टिहरी के पहाड़ देखे तो लगा कि इससे अच्छा और सुंदर क्या हो सकता है? लेकिन जब आप आगे.. और आगे जाते हैं तो पता चलता है कि सबसे सुन्दर कुछ नहीं होता है। हर नया पहाड़, हर नया शिखर आपको हतप्रभ कर देता है, आप बस उसे तकते रह जाते हैं। उस दिन हमने आसमान को छूती तुंगनाथ चोटी की चढ़ाई की।हममें से हर कोई बस यही कह रहा था कि ये पल और ये दिन कोई भुला नहीं पाएगा।

तुंगनाथ के बारे में बहुत सुना था। हम सब उत्साह और ऊर्जा से भरे हुए थे। तुंगनाथ तक पहुंचने के लिये हमने एक बस को बुक किया था। हम 9 मई 2018 को सुबह-सुबह लगभग 30-35 लोगों के साथ एक बेहतरीन सफर के लिए निकल पड़े। आगे चलकर कुछ दूरी के लिए ये सफर हममें से कुछ को चक्कर दिलाने वाला था और कुछ को नींद।

हरिद्वार से हमारी बस चोपता तक जानी थी और हमें आज ही पहुंचकर चढ़ाई भी करनी थी। इसलिये हमें कम जगह रुकना था जिससे जल्दी चोपता पहुंच सकें। मैं पहली बार इस तरफ जा रहा था। ऋषिकेश से आगे निकलने पर कुछ नया लग रहा था। सूरज सिर पर चढ़ आया था और घुमावदार सड़क भी शुरू हो गई थी। रास्ते बेहद ही सुंदर नजारों के साथ गुजर रहा था। हम पहाड़ के लिए, पहाड़ के रास्ते जा रहे थे।

तेज धूप थी जो अच्छे मौसम का संकेत थी। हमें देवप्रयाग, रूद्रप्रयाग के रास्ते चोपता पहुंचना था। ऋषिकेश से देवप्रयाग 70 किमी. की दूरी पर था। देवप्रयाग पहुंचने से पहले हम रास्ते में एक जगह रुके जहां हमने कुछ अपनी अकड़न दूर की और फिर चल पड़े पहाड़ों के बीच।

पहाड़ी नजारे

हम जैसे गोल-गोल घूमकर ऊपर जाते तो हमें कुछ ऐसे नजारे मिलते, जिसे देखकर लगता कि इसे इत्मीनान से देखना चाहिए। ऐसी जगह पर बस की बजाय दोपहिया वाहनों से आना चाहिये। हमारे रोड के साथ बगल में ही गंगा बह रही थी। हम नदी की उल्टी दिशा में जा रहे थे, वो हरिद्वार की ओर जा रही थी और हम चोपता की ओर। ऊंचाई से सब कुछ छोटा लगता है लेकिन सुंदर भी लगता है जैसे कि वो पुल, जो नदी के बीचोंबीच बना है। कहीं-कहीं पहाड़ों को तोड़कर चौड़ीकरण किया जा रहा था, जिस पर हमारे एक पत्रकार साथी अपनी टिप्पणी दे रहे थे।

शिवपुरी होते हुये हम कुछ घंटों में देवप्रयाग के रास्ते आ गये। जब हमको बड़ा ही सुंदर सा संगम दिखा। सोने वाले जागकर खिड़की से वो संगम देखने लगे। संगम में अलकनंदा और भागीरथी नदियां आकर मिलती हैं। हम ऊपर से उस संगम को देख रहे थे। मुझे अफसोस हो रहा था कि आंखों के सामने होने के बावजूद, संगम के पास जा नहीं पाया। देवप्रयाग और संगम को छोड़ते हुए हम रूद्रप्रयाग के रास्ते पर आ गये थे। अब दोपहर होने को थी, रास्ते में भीड़ देखी जा सकती थी। हम ऐसे ही रास्तों को पार करते हुए रूद्रपयाग छोड़ चुके थे।

वो घुमावदार पहाड़ी रास्ते

हम जैसे ही इन पहाड़ी रास्तों पर आगे बढ़ते जा रहे थे कुछ लोगों की हालत खराब होने लगी। कुछ साथियों ने खिड़की का सहारा लिया और कुछ ने नींद ने। एक सीनियर को अपनी हालत का पहले ही अंदाजा था इसलिए वे रास्ते भर सोते ही रहे। मुझे भी अपने आप पर विश्वास था कि मैं भी ऐसा ही करूंगा। इसलिए गोल रास्तों से बचने के लिए मैंने खिड़की का सहारा लिया। जब मुझे लगता कि उल्टी होने वाली है मैं अपना सिर खिड़की से बाहर निकाल लेता जो मुझे सुकून देता और पूरे रास्ते मैंने यही किया।

कुछ देर बाद हम एक होटल पर रुके जो सड़क किनारे था। हम सबने वहां खाना खाया और कुछ जरूरी काम निपटाए, जो सफर में परेशान करते हैं। खाना सबने अपनी पसंद का खाया, मैंने कम खाया क्योंकि मुझे डर था कि ज्यादा खाने से मुझे परेशानी हो सकती है। खाना खाने के बाद हम एक बार फिर से अपने सफर की ओर निकल पड़े।

सफेद चादर

कुछ साथी जो आगे बैठे थे वे बातों में लगे थे और पीछे वाले सोने में। एक और साथी अपने अनुभव से रास्ते के बारे में बता रहे थे। मैं भी उनकी बातें सुनना चाहता था इसलिए जब सभी बस पर चढ़े तो मैं आगे ही बैठ गया। आगे का नजारा सुंदर होने लगा था। एक तरफ तो बिल्कुल पहाड़ हमसे चिपक गया था और दूसरी तरफ नदी बह रही थी। दूर तलक हरे-भरे पहाड़ नजर आ रहे थे। अभी भी पहाड़ों पर धूप सीधी पड़ रही थी जो हालात खराब करने के लिये काफी थी।

जब हम कुछ दूर आगे निकले तो अचानक मुझे एक सफेद चादर सी दिखी। पहले तो मुझे लगा कि शायद आसमान है लेकिन ध्यान से देखा तो वो सफेद चादर, बर्फीले पहाड़ थे जिसे देखकर मैं चिल्ला पड़ा। सभी की नजर उसी ओर जा पड़ी। वो हमसे बहुत दूर थे लेकिन पहली बार ऐसा देखने पर खुशी बहुत होती है। मैं सोच रहा था कि वो शायद केदारनाथ वाला रास्ता है इसलिये मैं उसे मोबाइल में कैद करना चाहता था।

बर्फ वाला पहाड़ दिखने के बाद अचानक मौसम और रास्ते ने मोड़ ले लिया। मौसम में अंधेरापन छाने लगा और रास्ता बीहड़ सा हो गया। रास्ता पेड़ों से घिरा हुआ चला जा रहा था। पेड़ अंधेरे की वजह से काले नजर आ रहे थे और उसके पीछे दिखती सफेद चाद सुंदरता की छंटा बिखेर रही थी। ऊंखीमठ को पार करते हुये चोपता के नजदीक आ चुके थे। हमें रास्ता बेहद ही सुंदर नजर आ रहा था। हरे-भरे पेड़ और दूर तलक जहां देखो पहाड़ ही नजर आ रहे थे। अचानक बदले हुए मौसम ने सबके अंदर एक एनर्जी भर दी थी जो तुंगनाथ ट्रेक के लिए थी। कुछ देर बाद हम चोपता पहुंच गये थे, अब हमारा अगला पड़ाव था-तुंगनाथ ट्रैक।

(ये तुंगनाथ की यात्रा का पहला भाग है, दूसरे भाग में पढ़ें: तुंगनाथ शिखर की अप्रतिम खूबसूरती)

ये अलहदा सा यात्रा-वृतांत हमें लिख भेजा है ऋषभ देव ने। वो बताते हैं, अपनी घुमक्कड़ी की कहानियां लिखना मेरी चाहत और शौक भी। जो भी देखता हूं, उसे शब्दों में उतारने की कोशिश में रहता हूं। कहने को तो पत्रकार हूं, लेकिन फिलहाल सीख रहा हूं। ऋषभ मूलतः वीरों की भूमि बुंदेलखंड से हैं।


यह भी पढेंः

लैंसडाउन मतलब मिलिट्री इलाके की शांति, सुंदर पहाड़ियां, साफ चमकती सड़कें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here