नाहरगढ़ किला: अरावली की पहाड़ियों पर बसा ‘शेरों’ का गढ़

0
1067
views
तस्वीर साभार: निशांत मिश्र

घूमते वक्त एक घुमक्कड़ के मन में क्या चलता है? मैंने दूसरों से इसके बारे में कभी नहीं पूछा। लेकिन जयपुर में दो किलों को देखने के बाद एक अहसास था, सुकून वाला। मैं सोच रहा था कि कुछ जानकारी से भरी जगहों को देख चुका हूं और कुछ बाकी हैं। इन किलों को देखते वक्त मुझे थकान नहीं हुई थी। किले के अंदर होता था तो बस यही सोचता था कि कोई जगह न छूट जाये। आमेर किला और जयगढ़ किला की अपनी अहमियत है। एक राजशाही किला है तो दूसरा सैन्य बंकर। इस किले को देखने के बाद अब मुझे जाना था, नाहरगढ़ किला। नाहरगढ़ का शाब्दिक अर्थ होता, शेरों का गढ़।

nahargarh fort

जयगढ़ किले से बाहर निकला तो अब बाहर का नजारा बदल चुका था। टिकट काउंटर पर बहुत लंबी लाइन लगी थी, रास्ता गाड़ियों से भर चुका था। मेरी जहां तक नजर जा रही थी, गाड़ियां ही गाड़ियां नजर आ रहीं थीं। मैंने इंटरनेट पर चेक किया तो यहां से नाहरगढ़ किले की दूरी 5 किलोमीटर बता रहा था। मैंने सोचा पहले जाम पार करता हूं फिर गाड़ी देखता हूं। क्योंकि यहां से गाड़ी बुक करता तो घंटों यहीं जाम में फंसा रहता। मैं पैदल ही चलने लगा, गाड़ियों के बीच से। करीब आधा घंटे चलने के बाद मैं वो जाम पार करके खुले रास्ते पर आ गया। लेकिन अब यहां कोई टैक्सी नहीं थी। मैंने कैब का सहारा लेना चाहा लेकिन यहां नेटवर्क धोखा दे रहा था।

पइयां-पइयां सफर

कुछ देर इंतजार करने के बाद जब कुछ नहीं मिला तो पैदल ही चलने लगा। जयपुर आने वाले ज्यादातर लोग टूरिस्ट टाइप के ही होते हैं क्योंकि पूरे रास्ते मुझे कोई चलने वाला साथी नहीं मिला। लोग पहाड़ तो कई किलोमीटर चढ़ जाते हैं क्योंकि उसमें एक नाम जुड़ा होता है ‘ट्रेकिंग’। वो नाम इस सीधे रास्ते पर कहां मिलेगा? थोड़ी देर चलने के बाद मैं उस जगह आ गया। जहां से रास्ता बदलकर नाहरगढ़ की ओर जा रहा था। मैंने अब सोच लिया था कि पैदल ही नाहरगढ़ जाऊंगा। पैदल-पैदल रास्ता नापने लगा। आसपास जंगल-जंगल नजर आ रहा था। अधिकतर पेड़ सूखे ही नजर आ रहे थे, झाड़ियों के जैसे।

jal mahal jaipur

गाड़ियां तेज रफ्तार से आती और मेरे बगल से गुजर जातीं। एक टैक्सी जरूर आई और चलने का पूछने लगी। इस बार मैंने कोई रेट नहीं पूछा, क्योंकि मैं क्लियर था कि पैदल ही रास्ता तय करूंगा। जंगल को छोड़कर थोड़ी देर बार सड़क से पहाड़ दिखने लगे जो इस रोड से नीचे थे। मैं आसपास की सबसे ऊंची जगह पर चल रहा था। थोड़ा आगे चलने के बाद तस्वीर बदल गई। पहाड़ की जगह अब शहर और जलमहल ने ले ली थी। जलमहल की सबसे अच्छी और साफ तस्वीर यहीं से दिख रही थी। यहां से छोटे-छोटे मकान, जलमहल और उसके पीछे पहाड़। यहां से सबकुछ तस्वीर में कैद हो रहा था। कुछ देर बाद एक और बोर्ड मिला, नाहरगढ़ किला का। मैं सोच रहा था कि पास में ही है लेकिन मैं गलत था। मंजिल अभी दूर थी।

way of nahargarh fort

थोडा़ आगे चलने पर एक चाय की टपरी आई, पूरे रास्ते की एकमात्र यही दुकान थी। यहां थोड़ी देर बैठा और साथ के लिए चाय ले ली। मैं फिर चलने लगा क्योंकि रास्ते में कोई बोर्ड नहीं था कि नाहरगढ़ किला कितने दूर है। तभी मुझे एक ऊंचा गुंबद दिखा। मैं खुश हो गया आखिरकार मैं पैदल ही किले तक आ गया। लेकिन मैं गलत था वो तो कोई चरण मंदिर निकला। यहीं पर बहुत लोग पतंग उड़ा रहे थे। रास्ते में मुझे कई कटी पतंग भी मिलीं और टूटे माझे भी। जयपुर में पतंग उड़ाना त्यौहार की तरह लग रहा था। लोग बड़ी-बड़ी गाड़ी से यहां आते और पतंग उड़ाते। यहां हर उम्र का शख्स पतंग उड़ाते हुये दिख रहा था। मैं ऐसे ही दृश्य देखते हुये आगे बढ़े जा रहा था।

रास्ते में दूरदर्शन संचार का कार्यालय मिला। एक उम्रदराज व्यक्ति उसमें से निकला और मोटरसाइकिल से कहीं जाने लगा। वो नाहरगढ़ की तरफ ही जा रहे थे। मैंने पूछा, नाहरगढ़ जा रहे हैं? उन्होने कोई जवाब नहीं दिया लेकिन रुकी हुई गाड़ी से मैं समझ चुका था कि इशारा बैठने का है। कुछ ही मिनटों के बाद मैं नाहरगढ़ किला पहुंच गया। नाहरगढ़ किले का गेट भी बाकी किलों के तरह बड़ा था। इस गेट का नाम था, ताडी गेट।

nahargarh fort

ताडी गेट से अंदर गये तो फिर से वही काम करना था जो अब तक करते आ रहे थे ‘टिकट लाइन’। यहां लाइन ज्यादा लंबी नहीं थी कुछ ही देर में मेरा नंबर आ गया। आम भारतीय के लिये टिकट की 50 रुपये का था। विद्यार्थी की आईडी होती तो टिकट सिर्फ 5 रुपये का पड़ता। टिकट लेकर आगे बड़ा तो कुछ कृत्रिम कलाकारी दिखी। जहां पर बाहर एक नकली शेर बना हुआ था, हुक्का पीता हुआ एक बुत। लेकिन ये खाली नमूने थे। वहीं बैठे गाॅर्ड ने बताया कि म्यूजिम अंदर है, वहां बहुत नायाब चीजें रखी हैं। उसके अंदर जाने का अलग से टिकट लेना पड़ रहा था जिसकी कीमत 500 रुपये थी।

मैं तो किला देखने आया था ये लुटाई तो कहीं और भी की जा सकती थी, मैं आगे बढ़ गया। थोड़ा ही चलने पर मुझे बावड़ी मिली। जो नाहरगढ़ की सबसे ऐतहासिक बावड़ी है, जिसमें आज भी पानी बना हुआ है। उसके बगल में ही एक टंका है, हौदी के टाइप का। जिसमें वर्षा का पानी आता है और यहां से पानी छनकर बावड़ी में जाता है। उसके ठीक सामने ही किला है, माधवेन्द्र भवन।

माधवेन्द्र भवन

नाहरगढ़ किले को 1734 में महाराजा सवाई जयसिंह ने बनवाया था। ये किला कभी आमेर की राजधानी हुआ करता था। राजा बदलते रहे और इसका विस्तार होता गया। इस किले के नाम की भी कई कहानी हैं। कहा जाता है कि यहां राजा नाहर का भूत रहता था। जो इस किले को बनने नहीं दे रहा था, उसने शर्त रखी कि इस किले का नाम उसके नाम पर होना चाहिये। इसलिए इस किले का नाम नाहरगढ़ किला रख दिया।

nahargarh fort

माधवेन्द्र भवन बाहर से देखने पर किसी पुराने घर की तरह लग रहा था। जिसकी दीवारों का रंग अब उतर रहा है। उसके आगे ही पपेट शो चल रहा था, जिसको दो लड़के दिखा रहे थे। एक हरमोनियम बजा रहा था और दूसरा ढोलक। उसके ठीक सामने ही इस भवन का दरवाजा था जो अभी तक देखे गये किलों में सबसे छोटा था। अंदर घुसते ही लगा कि सच में किसी भवन में आ गया हूं। एक बड़ा-सा आंगन और उसके आसपास बहुत से कमरे। हर कमरे में कुछ न कुछ अजब-गजब था, जो सब कृत्रिम था। पूरे किले में यही सब था। कहीं टूटी प्लेट तो कहीं मसाले। उन सबमें सबसे बेहतरीन वो पांडुलिपि थी। जो दूर से देखने पर लग रही थी कि कोई पुरानी किताब रखी है, छूकर देखा तो पूरा पत्थर था। ऐसी ही एक और कलाकृति थी एक लकड़ी में बहुत सारे सिक्के थे। हर कमरे में सुरक्षा गाॅर्ड था।

madhvendra bhavan

पूरा किला इन सबसे ही भरा हुआ है। यहां से देखने लायक है, पूरा शहर। यहां से नीचे दिखता शहर खूबसूरत लगता है। मानो, हर जगह सफेदी-सफेदी हो। ये देखकर थोड़ा निराश हुआ था कि यहां से जयपुर पिंक नहीं लग रहा था। उसके बाद मैं सबसे ऊपर पहुंच गया यानि कि इस भवन की छत पर। जहां से किला के गुंबदों को देखना तो अच्छा लगता ही है, शहर को भी देखने का मन करता है। ये जयपुर की सबसे ऊंची जगह थी।

माधवेन्द्र भवन के हर कोने को और किले की कृत्रिमता को देखकर मैं बाहर निकल आया। अब मुझे वापस लौटना था, यहां से मैं पैदल नहीं जा सकता था क्योंकि इस जगह से जयपुर शहर 15 किलोमीटर दूर है। 5 किलोमीटर चलने में बहुत समय लग गया था। मैं किसी भी तरह पैदल का सोचूं तो बहुत समय लग सकता था।

jaipur city

असली सफर तो बाकी था

बाहर आकर सबसे पहले यहां का मुर्रा खाया और फिर आईसक्रीम। बहुत सारे ऑटो खड़े थे, मैं जिससे भी जाने का पूछता तो वो 300-400 का अपना रेट रख देते। यहां जो आया था उसको जाना जरूर था इसलिए मनमाने पैसे वसूले जा रहे थे। मैं आगे चलता रहा और पूछता रहा लेकिन कहीं बात नहीं बनी। मैं मजबूरन पैदल चलने लगा। लगभग 1-2 किलोमीटर चल गया था, शरीर में थकावट नहीं थी। लेकिन 15 किलोमीटर सोचकर थकान हावी होने लगती। ऑटो मेरे पास आती और हाॅर्न मारती। मेरा जवाब न मिलने पर आगे निकल जाती। ऐसा बार-बार हो रहा था, मैं परेशान हो गया। मैंने वो कच्चा रूट पकड़ लिया जो रोड के बगल से गया था। यहां से जलमहल दिख रहा था, थोड़ी देर बाद बड़ी गहरी खाई। मैं थकान के कारण वहीं बैठ गया। लगभग आधा घंटा वहीं बैठा रहा। मैं उसी दीवार पर चलने लगा जो खाई के इस तरफ बनी थी।

nahargarh fort

मैं सोचने लगा कि यहां से सीधा रास्ता होता तो 15 मिनट में जलमहल पहुंच जाता। इस घुमावदार रास्ते ने शहर को कितने दूर कर दिया। मैं सोचने लगा कि क्यों न यहीं से जाया जाए? लेकिन गहरी खाई देखकर जाने का मन नहीं हो रहा था। उससे भी बड़ा डर था घना जंगल। जहां जंगली जानवर होने की भी आशंका थी। मैं इस रास्ते का विचार छोड़ ही रहा था कि मुझे एक झंडा दिखाई दिया। ध्यान से देखा तो वो कोई मंदिर जैसा लग रहा था। मुझे रास्ता नहीं मिला था लेकिन मंजिल दिख गई थी। मैं खड़ी खाई में जाने के लिए तैयार हो गया। एक छलांग से मैं उस ढलान वाले रास्ते पर चलने लगा। कदम एक जगह रुक नहीं रहे थे, भाग रहे थे। रुकने के लिये मुझे पेड़ो को पकड़ना पड़ रहा था। रास्ता था नहीं लेकिन बनाना पड़ रहा था। फिसलने का भी डर था, अगर फिसला तो सीधा खाई में पहुंच जाता।

jaipur

पहले पेड़ों का जंजाल और फिर फिसलते पत्थर। ऐसे ही ढलान को उतरने में मेहनत जरूर लगी लेकिन कुछ अलग रास्ते पर जाने का उत्साह था। जंगल में बस पंक्षियों की चहचाहट ही सुनाई दे रही थी। मैं जल्दी से जल्दी उस मंदिर के पास जाना चाहता था। मुझे अब डर खाई का नहीं था, मुझे डर था बस जानवरों का। जैसे ही नीचे उतरा तो सुकून ही सांस ली। यहां से ऊपर देखने पर खुशी हो रही थी। खुशी इस बात की, जयपुर में आकर मैं एक पहाड़ से उतरा था। खुशी इस बात की, कुछ अलग किया था। सुकून इस बात का, मुझे अब 15 किलोमीटर नहीं चलना पड़ा था। मैं वहीं बैठ और सोचने लगा कि अकेले घूमने में कितनी आजादी होती है। वही आजादी इस समय मैं महसूस कर रहा था। मैं भूल गया था कि अभी सफर पूरा नहीं हुआ था। वैसे भी सफर कभी पूरा होता है क्या? वो तो चलता ही रहता अपने-अपने हिस्से का।


गुलाबी शहर जयपुर के बारे में हमें ये अलहदा सा यात्रा-वृतांत लिख भेजा है ऋषभ देव ने। अपने बारे में वो बताते हैं, अपनी घुमक्कड़ी की कहानियां लिखना मेरी चाहत और शौक भी। जो भी देखता हूं, उसे शब्दों में उतारने की कोशिश में रहता हूं। कहने को तो पत्रकार हूं, लेकिन फिलहाल सीख रहा हूं। ऋषभ मूलतः वीरों की भूमि बुंदेलखंड से हैं।


ये भी पढेंः

जयगढ़ किला: बार-बार आमेर किला देखकर ऊब गए हैं तो यहां पहुंचिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here