सूरत मतलब न्यूट्रीशन से भरे मजेदार चटख खानों का आनंद

0
1015
views

सूरत में घूमने के लिए तो बहुत सारी बेहतरीन जगह हैं। घूमने के अलावा यहां खाने के भी बहुत सारे विकल्प मौजूद हैं। खासकर स्ट्रीट फूड को तो बिल्कुल भी मिस मत कीजिए। आपने अगर ये चीजें नहीं खाई तो समझिए आपने सूरत में कुछ नहीं खाया।

खमण

यह गुजरात का सबसे प्रसिद्ध खाद्य पदार्थ है। सुबह आप नाश्ता करने निकलेंगे तो हर दुकान पर आपको यह दिख जाएगा। खमण थोड़ा स्पंजी होता है। यह चने के आटे से बनता है। खमण कई प्रकार का होता है। मैंने तीन तरह के खमण खाए, नमकीन खमण, हल्का मीठा खमण और मसाला खमण। पहले दो तरह के खमण टुकड़ों में होते हैं। ये बेसन की बनी एक खास तरह से चटनी और तले हुए हरे मिर्च के साथ परोसे जाते हैं।

मीठा खमण
नमकीन खमण

मसाला खमण भुरभुरा होता है। इसे एक खास तरह की सब्जी और प्याज के साथ परोसा जाता है। तीनों तरह के खमण के ऊपर सेव की ड्रेसिंग की जाती है। सेव मतलब सेव नमकीन। खमण किस जगह बिक रही है, उस हिसाब से इसके दाम घटते-बढ़ते रहते हैं। 100 ग्राम खमण आपको 10 रुपए से लेकर 30-40 रुपए तक मिल जाता है।

मसाला खमण

आलूपूरी-चटनी

देश के अधिकतर भागों में गेहूं की बनी सामान्य पूरी खायी जाती है। पर गुजरातियों का स्वाद ही अलग है। इसीलिए ये आपको खिलाते हैं आलू-पूरी। यह कच्चे आलू के चिप्स को बेसन में तलकर बनाया जाता है। इसे सब्जी के साथ न खाकर बेसन की गुजराती चटनी के साथ खाते हैं।

आलू पूरी-चटनी

आलू-पूरी

इसे सूरत का मोमो समझिए। हर गली-नुक्कड़ पर आपको यह 10-20 रुपए में एक प्लेट आलू-पूरी मिल जाएगी। इसमें मैदे की आधी-पकी एक छोटी-सी पूरी होती है। इसके ऊपर थोड़ी-सी सब्जी, छोले, प्याज, पत्तागोभी, मसाले, चटनी रख देते हैं। बस हो गयी आपकी आलू-पूरी तैयार। इसमें आलू तो न के बराबर होता है, जाने इसे क्यों इसे आलू-पूरी कहा जाता है।

आलू-पूरी

फाफड़ा

सुबह नाश्ता करने निकलिए तो इसे जरूर ट्राई कीजिए। ये बेसन से बनता है और गुजरात में जलेबी के साथ परोसा जाता है। इसे गुजराती बेसन की चटनी के साथ भी खा सकते हैं।

फाफड़ा

खमण ढोकला

इसको तो खाया भी होगा आपने। यह एक तरह का खमण ही है। अंतर बस इतना है कि यह थोड़ा ज्यादा स्पंजी होता है। यह भी नमकीन और हल्का मीठा दो तरह से बनता है।

गुजराती थाली

भोजन करने का मन हो तो कम से कम एक बार गुजराती थाली का स्वाद लेना चाहिए। थाली में 3 से 4 तवा रोटी, एक कटोरी चावल, मीठी दाल, बैंगन की सब्जी (भर्ता क्या होता है यह पता लगाना मुश्किल होता है), एक पापड़, एक खास तरह का सलाद और अचार शामिल होता है। हालांकि मुझे यह कोई खास पसंद नहीं आई। खासकर दाल मीठी होने के वजह से। आप भी ट्राई कीजिए शायद आपको अच्छी लगे।


सूरत से मुंह में पांच-छः लीटर पानी भर देने वाला ये ब्यौरा हमें लिख भेजा है शुभम प्रमिल ने। शुभम पेशे से पत्रकार हैं। उनका दिल्ली में अपना ठिकाना है। शुभम बताते हैं कि मुझे घूमना-फिरना, पढ़ना और नए लोगों से मिलना पसंद है। दुनिया देखना चाहता हूं, खासकर ऐतिहासिक जगहों को। खाने-पीने और उनकी तस्वीरें उतारने का भी खासा शौक है।


ये भी पढ़ेंः

तमिलनाडु का खाना मतलब सादगी, चटख रंग, भरपूर सब्जियां और बेमिसाल स्वाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here